संघ के सभी सदस्यो की सूचना एकीकृत रूप से एक ही जगह संग्रहित करने की बहुआयामी एवं भविष्य हेतु अमूल्य निधि साबित होने वाले महत्त्वपूर्ण कार्य को रत्नसंघीय सूचना संग्रहण कार्यक्रम के माध्यम से युवक परिषद् द्वारा अ.भा.श्री जैन रत्न हितैषी श्रावक संघ के निर्देशानुसार से प्रारंभ किया जा चुका हैं । इस कार्यक्रम को मूर्त रूप प्रदान करने हेतु युवक परिषद् के उपाध्यक्ष श्री विकास जी गुंदेचा जोधपुर, सचिव श्री वेदांत जी सांखला बैंगलोर, संयोजक श्री मुदित जी जैन जोधपुर एवं सह संयोजक श्री शुभम जी कांकरीया जोधपुर को जिम्मदारी प्रदान की गयी हैं ।

इस कार्यक्रम के द्वारा सभी सदस्यों की व्यक्तिगत, धार्मिक, व्यवसायिक, पारिवारिक एवं विषेष उपलब्धियां आदि की जानकारी आनलाईन इण्टरनेट के माध्यम से संग्रहित की जा रही हैं । सभी सदस्यों को उनकी उपलब्धि अनुसार एक सूत्र में पिरोया जा सके, इसी शुभ ध्येय को पूर्ण करने हेतु सभी से अनुरोध है कि आनलाईन फार्म संघ की वेबसाईट www.ratnasangh.com पर उपलब्ध हैं । इस कार्यक्रम को प्राथमिकता देते हुए परिवार के सभी सदस्यों का फार्म पृथक रूप से भरें ।

01   सबसे पहले संघ की वेबसाईट www.ratnasangh.com पर लागआन करें, तत्पश्चात नये फार्म हेतु New Form पर एवं अपने पुराने भरे फार्म में नयी जानकारी जोड़ने या सुधार हेतु Edit Form पर क्लिक करें ।

02   नये फार्म हेतु वेबसाईट पर मांगी जाने वाली प्राथमिक सूचना दिये जाने पर आपको एक संदेश प्राप्त होगा, जिसमें आप द्वारा भरा गया फार्म नम्बर एवं फार्म भरने की तारीख प्राप्त होगी, इसे भविष्य में अपने फार्म में सुधार करने हेतु सुरक्षित रखें।

03   अपने पुराने भरे फार्म में सुधार करने हेतु आप Edit Form पर क्लिक करें । यहाँ पर आपको अपने पहले भरे हुए फार्म का नम्बर एवं फार्म भरने की तारीख डालने पर आपका पुराना भरा हुआ फार्म प्राप्त हो जायेगा । आप वांछित सुधार कर इसे पुनः Save कर देवें।

यह फार्म मात्र 5-7 मिनट में पूर्ण भरा जा सकता हैं । फार्म भरने हेतु कम्प्युटर, लेपटाप, टेबलेट, आई पेड या मोबाईल किसी भी माध्यम का उपयोग किया जा सकता हैं । यह संघ की सभी भावी योजनाओं, संघ द्वारा सूचना को त्वरित रूप से अपने सदस्यों को पहूँचाने एवं संघ के सदस्यों में सक्रियता का संचार करने में मील का पत्थर साबित होगा । आप सभी से अनुरोध हैं कि आप अपने परिवार के सभी सदस्यों का व्यक्तिगत रूप से फार्म शीघ्रातीशीघ्र भरे ।

इसी प्रकार युवक परिषद् द्वारा विविध स्थानों पर पुस्तकालयों की स्थापना भी की गयी थी । वहा पर उनकी देखरेख का कार्य युवक परिषद् की शाखाओं के माध्यम से किया जा रहा हैं ।

विकास गुंदेचा

उपाध्यक्ष

वेदांत सांखला

सचिव

मुदित जैन

संयोजक

शुभम कांकरिया

सह-संयोजक